नर्स को दिया इंजेक्शन

0
Loading...

प्रेषक : राम …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राम है, एक दिन मेरे मोबाईल की मैसेज रिंगटोन बजी तो मैंने मैसेज देखा, तो उसमें लिखा था हैप्पी दीवाली। मुझे वो मैसेज अंजान नंबर से आया था तो मैंने कॉल किया, तो दूसरी साईड से एक लड़की बात कर रही थी। फिर मैंने पूछा, तो वो बोली कि उसका नाम ऋतु है। फिर उसने कहा कि वो अपनी दोस्त को मैसेज कर रही थी और ग़लत नंबर पर मैसेज सेंड हो गया। फिर मैंने बोला कि कोई बात नहीं और फोन डिसकनेक्ट कर दिया। अब दीवाली के तुरंत बाद ही मेरा एग्जॉम था, तो मैंने वो नंबर सेव किया और पढ़ाई में लग गया। अब एग्जॉम ख़त्म होते-होते 1 महीना बीत गया। फिर में छुट्टियों में अपने घर आया और अपनी छुट्टियों का मजा ले रहा था। अब में अपने दोस्तों से चैटिंग करता, तो कभी फॉर्वर्ड मैसेज भेजता था। फिर तभी एक दिन मैसेज करते वक्त मुझे वो हैप्पी दीवाली वाला मैसेज फिर से दिखाई दिया। फिर मैंने सोचा कि चलो मैसेज करके देखते है, तो मैंने एक फॉर्वर्ड मैसेज उस नंबर पर सेंड किया, तो 1 मिनट के अंदर ही ऋतु का रिप्लाई आया।

ऋतु : आ गये घर?

में : हाँ, लेकिन तुम्हें कैसे पता? कौन हो तुम? और मुझे कैसे पहचानती हो?

ऋतु : अरे रूको ज़रा, कितने सवाल पूछ रहे हो? में आपको जानती हूँ।

में : कौन हो आप?

ऋतु : में हॉस्पिटल में नर्स हूँ।

में : आपको मेरा नंबर कैसे मिला?

ऋतु : आपकी छोटी बहन की तबियत खराब थी, तो में हर दिन उसको ड्रिप लगाने आपके घर जाती थी, तभी मेरी आपकी बहन से दोस्ती हो गयी। फिर दीवाली के दिन वो मुझसे बोली कि भैया को दीवाली विश कर दो, तो मैंने आपको मैसेज किया था।

में : ओह, ठीक है।

ऋतु : कैसे हो?

में : मज़े में और आप?

ऋतु : थोड़ी कन्फ्यूज़्ड हूँ।

में : क्यों? क्या हुआ?

ऋतु : मेरी एक दोस्त और उसका बॉयफ्रेंड घूमने जा रहे है और वो मुझे भी अपने साथ चलने के लिए कह रहे है।

में : तो?

ऋतु : अरे बाबा में उन दोनों के बीच में हड्डी क्यों बनूँ? इसलिए में कन्फ्यूज़ हूँ, जाऊं की नहीं जाऊं।

में : आप भी अपने बॉयफ्रेंड के साथ चले जाना।

ऋतु : पहली बात तो ये कि तुम मुझे आप-आप करना बंद करो और दूसरी बात मेरे कोई बॉयफ्रेंड नहीं है।

में : ओके, सच में तुम सिंगल हो?

ऋतु : हाँ सच में, तुम्हारी तो गर्लफ्रेंड होगी ही।

में : नहीं, में भी सिंगल हूँ तो क्या प्लान है?

ऋतु : कैसा प्लान?

में : घूमने जाने का?

ऋतु : अगर कोई मेरे साथ हो तो में चली जाउंगी, तुम चलोगें मेरे साथ?

में : सॉरी, लेकिन मुझे मेरे कज़िन की शादी में जाना है।

फिर हमारी बातचीत वही रुक गयी। अब में सोचने लगा था कि पहली बार में ही ये लड़की मुझे अपने साथ घूमने आने के लिए बोल रही है, कुछ तो गड़बड़ है। फिर हम रोज मैसेज पर बात करने लगे, अब जितने दिन में घर पर था, तो वो मुझे मिलने बुलाती, लेकिन में कोई ना कोई बहाना बनाकर उसे मना कर देता। अब मुझे भी ठीक नहीं लगता था, फिर में वापस कॉलेज चला गया। अब कॉलेज जाने के बाद वो बहुत दुखी हो गयी थी। फिर वो कहने लगी कि तुम्हें मेरी कोई परवाह नहीं है, तुम मुझे इग्नोर करते हो, तुम मुझमें इंट्रेस्टेड नहीं हो, तुम मुझसे बात नहीं करना चाहते हो और भी बहुत कुछ है। फिर मैंने उसको कुछ उल्टा पुल्टा बोलकर समझाया और उसे शांत किया।

फिर उसी टाईम मेरी कॉलेज की जो गर्लफ्रेंड थी, उसके साथ मेरा फुल अटैचमेंट था। उसके साथ मुझे सब मिलता था, तो में ऋतु को सीरियली नहीं लेता था और मुझे ये भी नहीं पता था कि उसके मन में मेरे लिए क्या इमोशन्स है? इसलिए में उसके साथ बात तो करता था, लेकिन उसके साथ कभी कुछ ग़लत नहीं किया। फिर कुछ दिनों के बाद मेरा मेरी गर्लफ्रेंड के साथ झगड़ा हुआ और फिर हमारा ब्रेकअप हो गया। अब मुझे नहीं पता कैसे? लेकिन ऋतु ने मुझे उसी रात प्रपोज़ किया। अब हमारा संपर्क सिर्फ़ फोन पर था, हमने एक दूसरे को देखा भी नहीं था। फिर मैंने उससे कहा कि अगर बाद में उसको में पसंद नहीं आया तो? तो वो बोली कि ऐसा नहीं हो सकता, तुम कैसे भी होगे? तो भी मुझे अच्छे लगोगे। फिर मैंने कहा कि पहले हम मिलेंगे, फिर सोचेंगे कि क्या करना है? क्योंकि में उसे फंसाकर उसका फायदा नहीं उठाना चाहता था।

फिर हमने मिलने का ठान लिया, पता नहीं क्यों? लेकिन अब में घर जाने के लिए बेकरार हो रहा था। फिर मैंने ट्रेन की टिकट करवाई और अपने घर पहुँच गया। वो हॉस्पिटल की कॉलोनी में रहती थी, फिर उसने मुझे उसके घर पर बुलाया। अब में उससे मिलने के लिए बेकरार था, अब में मन ही मन सोच रहा था कि वो कैसी होगी? क्या वो माल होगी या फिर नहीं? क्या वो हाईटेड होगी? ( मेरी हाईट 6 फुट 2 इंच है) उसकी फिगर कैसी होगी? क्या वो मुझे पसंद करेगी? अब ये सारे सवाल अपने मन में लिए मैंने अपनी बाइक निकाली और उसके घर की तरफ चल दिया। फिर उसने कहा कि बाइक थोड़ी दूर पार्क करना और फिर चलते हुए उसके घर पर आना। फिर मैंने अपनी गाड़ी थोड़ी दूर पार्क की और उसके घर की तरफ जाने लगा। अब वो मुझे फोन पर दिशा बता रही थी, फिर फाइनली में उसकी बिल्डिंग के नीचे गया, तो फिर उसने अपना फ्लोर नंबर और क्वॉर्टर नंबर बोला।

अब मेरा दिल ज़ोर से धड़क रहा था, फिर में उसके घर के सामने गया और मेरे बेल बजाने से पहले ही उसने दरवाजा खोल दिया और मुझे अंदर खींच लिया। अब उसे डर था कि कोई मुझे उसके घर में जाते हुए देख ना ले। फिर मैंने उससे हाय कहा और उसको देखने लगा, अब मैंने मेरे मन में जो तस्वीर बनाई थी, वो उससे कही अधिक बढ़कर थी। अब में नीचे से ऊपर तक उसे घूर रहा था, वो हाईट में मुझसे काफ़ी कम थी, उसका कलर मुझसे भी फेयर था, उसने जीन्स और टी-शर्ट पहन रखा था, उसके हाथ और पैर पर बिल्कुल भी बाल नहीं थे।फिर मैंने देखा कि उसके बूब्स बहुत बड़े है, उसका चेहरा बहुत ही सेक्सी था। फिर जब मेरी नज़र उसकी नज़र से मिली, तो वो शर्मा गयी और पलट गयी। अब पीछे से देखने पर मुझे ये पता चला कि उसकी गांड गोल और मोटी थी, फिर उसने मुझे आवाज़ दी और पूछा।

ऋतु : क्या में तुम्हें पसंद हूँ?

में : हाँ बहुत, क्या में तुम्हें पसंद हूँ?

ऋतु : मैंने तो पहले ही बोल दिया था, लेकिन तुम्हें देखने के बाद तो तुम मुझे और भी अच्छे लगे।

फिर उसके बाद हम इधर उधर की बातें कर रहे थे। अब हम दोनों पहली बार मिले थे, तो हमारी बातों में हिचकिचाहट थी। अब हम एक दूसरे की आँखों में देख नहीं पा रहे थे, फिर जब हमारी आँखे मिलती, तो वो शर्मा जाती। फिर लगभग आधे घंटे के बाद मैंने उससे कहा कि मेरे पास आओ, अब हम आमने सामने सोफे पर बैठे थे, तो उसने मना कर दिया। फिर मैंने उससे कहा कि में उससे मिलने इतनी दूर से आया हूँ और वो मेरे पास भी नहीं आ सकती। तो वो खड़ी हो गयी, लेकिन मेरे पास में नहीं आई। तो में भी खड़ा हो गया और उसके पास में गया। फिर मैंने उसका हाथ थामा और उसे लेकर अपने वाले सोफे के पास आया और बैठ गया और उसे अपने पास खींचा।

Loading...

अब उसके दोनों हाथ मेरे हाथों में थे, फिर उसने पूछा कि क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि मुझे तुम्हें किस करने का मन कर रहा है, तो वो शर्मा गयी। फिर में उसके दोनों हाथ उसकी पीठ की तरफ ले गया और उसकी गांड पर रख दिए। अब मेरे हाथ और उसके हाथ उसकी पीठ पीछे उसकी गांड पर थे और वो अपनी नज़रे झुकाकर खड़ी थी। फिर मैंने हल्के से उसके हाथों को और उसकी गांड को रगड़ना शुरू किया, तो वो झटपटाने लगी। अब में उसके हाथों से ही उसकी गांड को मसल रहा था। अब वो सिसकियां लेने लगी थी, फिर मैंने उसे अपने और करीब खींचा और अपने लिप्स उसके लिप्स पर टीका दिए, तो उसने अपने लिप्स नहीं खोले। लेकिन जब में उसके लिप्स में से रस पी रहा था, तो उसने आहें भरने के लिए अपने लिप्स खोल दिए। अब में उसके नाज़ुक लिप्स को बारी-बारी से चूस रहा था। अब वो भी मेरे लिप्स को चूसने लगी थी, अब उसके गुलाब के फूल जैसे नर्म लिप्स मेरे लिप्स में आते ही में उसकी गांड को ज़ोर-ज़ोर से मसलने लगा था।

अब वो भी मुझे बहुत ज़ोर से और तेज़ी से किस करने लगी थी। मैंने आज तक उसके जैसे लिप्स को कभी नहीं चूमा था। अब उसे चूमते-चूमते में थम गया और पीछे हट गया। फिर उसने मेरी तरफ देखा और वो खुद मेरे पास आई और मुझे चूमने लगी। अब भी उसके हाथ उसकी गांड पर और मेरे हाथ में थे। फिर में उससे बोला कि मुझे आम का जूस बहुत पसंद है, तो वो समझ गयी लेकिन कुछ नहीं बोली। फिर में उसके गले पर चूमने लगा और धीरे-धीरे नीचे चूमते-चूमते में उसकी टी-शर्ट के ऊपर से ही उसके आम को चूसने लगा। अब वो झटपटाने लगी थी और अपने हाथ छुड़ाने की कोशिश करने लगी थी। फिर वो अपने पैरो को एकदम से चिपकाकर मुझसे कहने लगी कि नहीं बस करो मुझे कुछ हो रहा है, मेरे हाथ छोड़ो। अब में उसके आम एक के बाद एक चूस रहा था, अब वो मुझे छोड़ने के लिए कह रही थी, लेकिन वो उसके आम को और ज़ोर से मेरे मुँह से दबा रही थी और प्लीज़ छोड़ो, प्लीज़ छोड़ो बोल रही थी, लेकिन वो मुझसे और भी ज्यादा चिपक रही थी।

फिर मैंने उसके हाथों को छोड़ दिया और उसके आमों को पकड़ लिया। अब तक उसकी टी-शर्ट मेरे चूसने से गीली हो चुकी थी, अब में उसके आम दबाने लगा था। फिर मैंने एक बार तो उसके आम इतनी जोर से दबाए कि वो उछल पड़ी, वो अभी तक खड़ी ही थी और मछली की तरह तड़प रही थी। फिर मैंने उसको अपनी गोदी में बैठाया, तो वो मेरे बाएँ पैर पर बैठ गयी और उसके दोनों पैर मेरे दाएं पैर से नीचे छोड़ दिए। अब में उसकी टी-शर्ट को ऊपर करने लगा था, तो उसने भी अपने हाथ ऊपर करके उसे निकाल दिया। अब में अपने एक हाथ से उसके आम दबा रहा था और अपना दूसरा हाथ उसकी नंगी पीठ पर घुमा रहा था। फिर उसके हाथ से मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और जैसे ही मैंने उसकी ब्रा का हुक खोला, तो उसने अपने हाथों से अपने आम छुपा लिए। फिर मैंने उससे कहा कि ये आम मेरे है, तुम कौन होती हो इनको छुपाने वाली। तो वो बोली कि मुझे शर्म आ रही है, तो मैंने कहा कि मेरे सामने कैसी शर्म?

फिर मैंने उसके हाथ हटा दिए और उसकी ब्रा निकाल दी। फिर जैसे ही मैंने उसकी ब्रा निकाली, तो वो मुझसे चिपक गयी। अब वो मुझसे छूटने का नाम ही नहीं ले रही थी, मानो जैसे फेविकोल से चिपकी हो। फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसके नंगे आमों पर रख दिए और उन्हें दबाने लगा। अब वो मुझे पागलों जैसे चूमने लग थी, अब में उसके निपल्स को दबाने लगा, तो वो मुझे काटने लगी थी। अब मैंने उसके आमों को दबा-दबाकर नर्म कर दिया था, अब बस जूस पीना बाकी था। फिर मैंने उसे उठाकर सोफे पर लेटा दिया और उसके आमों पर टूट पड़ा। अब वो अपने हाथों से मेरे सिर को पकड़कर और दबा रही थी। अब में उसके बड़े-बड़े आमों का जूस चूस-चूसकर पी रहा था, तभी में खड़ा हो गया और अपनी टी-शर्ट को भी निकाल दिया। अब में उसके लिप्स को चूम रहा था कि तभी मैंने अपना एक हाथ उसकी पेंट पर से उसकी चूत पर रख दिया और जैसे ही मैंने उसकी चूत पर दबाया, तो वो अपनी गांड को उठाकर उछल पड़ी।

अब में उसकी चूत को उसकी पेंट ऊपर से ही सहला रहा था। अब मेरा लंड तो मानो कब से बाहर निकलने के लिए झटपटा रहा था। फिर मैंने उसकी पेंट को नीचे खींचा और निकाल दिया और अपनी जीन्स भी निकाल दी। अब हम दोनों सिर्फ़ अंडरवेयर में थे, अब मेरा लंड तो कब से सलामी दिए हुए था। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत के ऊपर रगड़ना चालू किया। अब वो मेरे बालों को खींच रही थी, अब उसकी पेंटी भी गीली हो गयी थी और मेरा लंड भी प्यासा हो गया था, तो फिर मैंने उसकी पेंटी निकाल दी और खड़े होकर मेरी अंडरवेयर भी निकाल दी। फिर जब उसने मेरा हथियार देखा, तो उसकी आँखे खुली की खुली रह गयी। फिर उसने पूछा कि कितना बड़ा है? तो मैंने कहा कि 7 इंच का है। तो वो बोली कि उसे डर लग रहा है, तो मैंने कहा कि डरने की कोई बात नहीं है तुझे मुझ पर भरोसा है ना तो फिर बस, अब हम दोनों नंगे होकर एक दूसरे को चूम रहे थे।

अब मेरे लिप उसके पूरे बदन को चूम रहे थे। अभी तक उसने मेरे लंड को टच नहीं किया था, फिर मैंने उसका हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया, तो वो सिर्फ़ मेरा लंड पकड़कर कुछ नहीं कर रही थी। तभी में उसके हाथ को हिलाने लगा और वो समझ गयी और मेरा लंड हिलाने लगी। फिर मैंने उससे कहा कि तुम बहुत खूबसुरत हो, तो उसने कहा कि तुम भी बहुत हैंडसम हो। फिर मैंने अपना लंड उसके हाथ से छुड़ाकर उसकी चूत पर रख दिया और उसके कुछ कहने से पहले मेरे लंड को अंदर घुसेड दिया, तो वो ज़ोर से चिल्लाई और मुझे धकेलने लगी।

Loading...

ऋतु : राम बहुत दुख रहा है नहीं प्लीज़ नहीं, बाहर निकालो प्लीज़ राम में मर जाउंगी।

अब में उसको चूमने लगा था और वो रोए जा रही थी। अब मेरा तो लंड सिर्फ़ थोड़ा ही अंदर गया था, अब में उसके हाथों को पकड़कर उसे चूम रहा था और धीरे-धीरे अपने लंड को अंदर दबा रहा था। अब वो मेरे हाथों से छूटने की कोशिश कर रही थी। तभी मैंने एक ज़ोर का झटका दिया, तो उसकी आवाज़ नहीं निकल पाई और उसकी आँखे खुली की खुली रह गयी और उसका मुँह भी खुला का खुला रह गया और उसकी आँखों से पानी निकलने लगा। अब मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया था। फिर मैंने महसूस किया की उसकी चूत बहुत टाईट है।फिर जब मैंने मेरे लंड को देखा तो उसके साईड पर थोड़ा खून लगा हुआ था। फिर मैंने उससे पूछा कि क्या ये उसका फर्स्ट टाईम है? तो उसने सिर्फ़ इशारे से हाँ कहा, तो फिर मैंने उसको चूमा और आई लव यू कहा।

फिर मैंने धीरे-धीरे आगे पीछे करना चालू किया। अब जैसे ही में अपने लंड को उसकी चूत में दबाता, तो वो जोर जोर से उछलती। फिर 15 मिनट तक तो में उसे बहुत ही धीरे-धीरे से चोदता रहा और जब मेरा लंड पूरी तरह से अंदर जाने लगा, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी। अब तक वो खुशी से चिल्लाने लगी थी, अब उसे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन उसमें उसे मज़ा भी आने लगा था। अब मैंने उसे ज़ोर-ज़ोर से चोदना चालू कर दिया था। अब वो कह रही थी कि आई लव यू राम, प्लीज़ डोंट लीव मी, ज़ोर से करो आहहह और ज़ोर से एयाया आह ओहह माँ। अब में झड़ने वाला था तो में उसे ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा कि तभी उसने मुझे ज़ोर से पकड़ा और अपना पानी छोड़ दिया। फिर मैंने भी थोड़ी देर तक उसे चोदने के बाद अपना पानी उसकी चूत के अंदर ही छोड़ दिया। अब हम दोनों का पानी निकलने से उसकी चूत में से नदियां बहने लगी थी और फिर में उसके ऊपर ही ढेर हो गया। अब वो मेरे बालों को सहला रही थी और में उसके आम सहला रहा था। फिर बाद में हम दोनों ने एक दूसरे को चूमा और सोफे पर ही सो गये।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!


ममी ने मुझसे चुदवाया हिंदी कहानीसाहिल ने अपनी बहन की सील तोडी कहानियाँAiyashi chudai khaniyaपहली मुठ मारने की कहानीvo sota hua gand marvana chahti thihindi sexy story onlineनई कहानी चुदाई कीdidi 10"inchi ke land se ghach ghach chudayचोदने का मन कहानीHindisexyAdultStoryभाभी ने चुसे चुसे का मजा लिया हिंदी कहानीहिंदी फॉन्ट स्टोरी माँ में बीटा से अपनी ब्रा और पेंटी पसंद करेdado ko Nehlaya sex kahanisexy srory in hindiसेक्स स्टोरीज हिंदी नईबहन के चुत का लावाHINDE SEX STORYmonika ki chudaiBAHAN ka dud dhuva sex kahaniantiyon ne maa se badla liya sex storykamukta bete sexबेटा मेरी गांड मत मारो मै तुम्हारी मम्मी हु सेक्स स्टोरीजपड़ोसन को बुलाकर चोदाfufa ko nind ki goli dekar bua ko choda hindi chudai kahaniपूस की रात की कहानीhindisexमाँ को फूफा ने चोदा कहानिhindisexsasusx stories hindiबहन की रसभरी चूत का पिसाब पियाnew hindi sex storygavalan ma ki chudaisex story hindi comपहली होली में छुड़ाईhindi sexy storyiआंटी को रगड़कर नहलायाnew हिनदी sex कहनीmujhe aap ka doodh peena h didi pleaseदीदी ने मोटा लैंड देख के चुड़ै सिखायागोलमटोल मजेदार काहनियामम्मी के साड़ी ब्लाउस पेंटी उतरवाकर नंगी कियाभुख लगने पर दीदी की चूची से दूध पीयाsex store hindi meऔरत की बोबो कैसे उगती हैमोटे।चूतड।साडी।मे।घूमती।भाभीstore hindi sexland dekh chut se nikli mut ki dharsexi storijAmmi ki chudai hindu sayमाँ को मैने चोदाचूदाई कि कहानियाँBuri tarka sa chut ki kahani40 साल की आंटी की चुदाई कहानीअचानक मेरा नाड़ा खुल गयाsex khaniyaRandi k awaj lgakr bulanaमम्मी बहन भाभी और पेटीकोट मे चुदाईचाचा की गाड ओर चाची की चुत मारीhindisexy ripoth prengnetHinde sex estoriचूत दर्द से छटपटाrajsharmasexystory motherमाँ के साथ गोवा मे सेकस कहानीभैया की पिचकारी मेरी चूत मेंhinde sxe stori/straightpornstuds/?__custom_css=1&Samdhan ko choda sex storiesदीदी की गंद मां ने दबेभी ने बहन का बिस्तर share किया रात भर सससमुट्टा मार विडिओ सेक्सm a ke kahane par maushi ki mote land se moti gand ki chudai ki kahaniyasaxy hindi storysचुदाई कथा Bosma ki nanhi peeth par hath rakha uncle ne sex storyhindi sex story in voiceमाँ बहन की चुदाई कहानियाँ न्यूबहन की चूत चोद कर बहनचोद बना